Kitabein (An Ode to Books)

0
953
views
[one_fourth class=””]
About

Poem Title: Kitabein
Author: Safdar Hashmi
Storyteller: Ajay Dasgupta
Language: Hindi
[/one_fourth] [three_fourth_last class=””]

Description

Kitabein is a poem by Safdar Hashmi about the beautiful world of books. Read more about Safdar Hashmi.
Image Courtesy: Kristine Full (http://www.flickr.com/photos/kristinefull/)
[/three_fourth_last]

Full Text in Hindi

किताबें
करती हैं बातें
बीते ज़माने की
दुनिया की इंसानों की

आज की, कल की
एक – एक पल की
खुशियों की, ग़मों की
फूलों की, बमों की
जीत की, हार की
प्यार की, मार की !

क्या तुम नहीं सुनोगे
इन किताबों की बातें ?
किताबें कुछ कहना चाहती हैं
तुम्हारे पास रहना चाहती हैं |

किताबों में चिड़ियां चहचहाती हैं
किताबों में खेतियां लहलहाती हैं
किताबों में झरने गुनगुनाते हैं
परियों के किस्से सुनाते हैं |

किताबों में रोकेट का राज है
किताबों में साइंस की आवाज़ है
किताबों का कितना बड़ा संसार है
किताबों में ज्ञान का भंडार है |

क्या तुम इस संसार में
नहीं जाना चाहोगे ?
किताबें कुछ कहना चाहती हैं
तुम्हारे पास रहना चाहती हैं |

Additional Resources

This is a musical rendering of ‘Kitabein’ [Books] by Safdar Hashmi, sung at Baangi the opening ceremony of Sarkash – A Festival of Alternative Culture at Prithvi Theatre, Mumbai December 2010.


Read more here – http://jananatyamanch.org/node/135

Ajay Dasgupta

Facilitator, Storyteller, Game Designer and Social Media practitioner who believes that technology, intent and the Agile methodology can change the world. He is the founder of The Kahani Project and also the co-founder of Epiphany Learning (www.epiphanylearning.co.in)

More Posts - Website

Follow Me:
TwitterFacebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.